Phir Se Ud Chala song from Rockstar Indian Hindi language Movie Phir Se Ud Chala Lyrics writer is Irshad Kamil song sung Mohit Chauhan.

Song: Phir Se Ud Chala
Movie: Rockstar
Starring: Ranbir Kapoor, Nargis Fakhri
Singer: Mohit Chauhan
Music: A R Rahman
Lyricist: Irshad Kamil
Music Label: T-Series

phir se ud chala lyrics
phir se ud chala lyrics

Phir Se Ud Chala Lyrics

Phir se ud chala
Ud ke chhoda hai
Jahaan neechein
Mein tumhare ab hoon
Havaale havaa

Ab door door log bag meelon
Door yeh waadiyan

Phir….
Dhuaa Dhuaa tan har badli chali aati hai chhoone

Par koi badli kabhi kai kar de
Tan geela yeh bhi naa ho

Kissi manzar par mein rukka nahin
Kabhi khud se bhi mila nahin
Yeh gilla toh hai mein khafa nahin

Sheher ek se gaon ek se
Log ek se naam ek

Oo.. ho o..
Phir se ud chala main

Mitti jaise sapne ye kitna bhi palko se jhaado
Phir aa jaate hain..

Itne saare sapne kya kahoon
Kis tarah se maine
Tode hain chode hain, kyun

Phir saath chale, mujhe le ke ude
Yeh kyun Oo. ho o o..

Kabhi daal daal, kabhi paat paat
Mere saath saath, phir dar dar yeh
Kabhi sehera, kabhi saavan
Banu raavan kyun mar marke

Kabhi daal daal, kabhi paat paat
Kabhi din hai raat, kabhi din din hai
Kya sach hai, kya maya
Hai daata, hai daata…

Idhar uudhar, titar bitar
Kya hai pata, hawa le hi jaye
Teri ore
Kheenche teri yaaden teri yaaden, teri ore..

Rang birange vehmon mein, main udta phirun
Rang birange vehmon mein, main udta phirun

Phir Se Ud Chala Lyrics END…

Phir Se Ud Chala Lyrics Hindi

फिर से उड़ चला
उड़ के छोड़ा है जहां नीचे
मैं तुम्हारे अब हूँ हवाले हवा
दूर-दूर लोग-बाग़ मीलों दूर ये वादियाँ

फिर
धुंआ धुंआ तन हर बदली चली आती है छूने
और कोई बदली कभी कहीं कर दे तन गीला ये है भी ना हो

किसी मंज़र पर मैं रुका नहीं
कभी खुद से भी मैं मिला नहीं
ये गिला तो है मैं खफ़ा नहीं

शहर एक से, गाँव एक से
लोग एक से, नाम एक
फिर से उड़ चला मैं

मिट्टी जैसे सपने ये कित्ता भी
पलकों से झाड़ो फिर आ जाते हैं

इत्ते सारे सपने क्या कहूँ
किस तरह से मैंने तोड़े हैं छोड़े हैं क्यूँ
फिर साथ चले, मुझे ले के उड़े, ये क्यूँ

कभी डाल-डाल, कभी पात-पात
मेरे साथ-साथ, फिरे दर-दर ये
कभी सहरा, कभी सावन
बनूँ रावण क्यूँ मर-मर के

कभी डाल-डाल, कभी पात-पात
कभी दिन है रात, कभी दिन-दिन है
क्या सच है, क्या माया
है दाता है दाता

इधर-उधर तितर-बितर
क्या है पता हवा लिए जाए तेरी ओर
खींचे तेरी यादें तेरी ओर

रंग बिरंगे वहमों में मैं उड़ता फिरूं
रंग बिरंगे वहमों में मैं उड़ता फिरूं

Written By –
Irshad Kamil

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *